नाग पंचमी क्यों मनाई जाती है?

नाग पंचमी क्यों मनाई जाती है?

नागपंचमी

आप सभी को मैं बता दे लोग कहते है,कालिया नाग यमुना नदी में विश्राम करता था,इस लिए विष इतना खतरनाक था की यमुना नदी विशांत हो चुकी थी।तथा आस पास के फसल बरबाद हो रही थी और जीव जंतु भी मर रहे थे।भगवान श्री कृष्ण जी ने कालिया नाग को यमुना छोड़ कर पताल लोक में भेज दिए।तथा लोगो को उसके भय से मुक्त करा दिए, अतः बौद्ध सत्र में नाग बांचमी उसी दिन से मनाया जाता है।

इसे भी पढ़े:https://angadujjal.in/mata-pita-ki-dat-ek-deen-aap-ko-kamayab-kar-deta-hai/

यह अत्यंत प्राचिन पर्व हैं बारह पुराण के अनुसार इसी दिन ब्रम्हा जी ने शेष नाग को पृथ्वी लोग पर जाने की अनुमति दी।भारत देश को नागो से एक अंगूठा संबंध रहा है,नागो का मूल अस्तर पटल लोग प्रशिद है पुराणों में नाग लोग की राजधानी भोगपुरी बताई गई है।गरुड़ पुराण,भविष्य पुराण,चरक सभ्यता,सुसभित साहिता भाव प्रकाश आदि। ग्रंथो का नाग देवता को संबंधित विषय का उल्लेख मिलता है,पुराणों में भगवान विष्णु को ईसाई शेष नाग है।भगवान शिव जी के गला का भी माला है,तो गणेश का अलंकरण भी नाग ही है,

Nagdewata

पुराणों में सूर्य की रथ में बारह नागो का उल्लेख होता है, जो क्रमशः प्रत्येक महीने में उनके रथ के वाहक बनते है।इस प्रकार भारतीय संस्कृति में देव रूप में स्वीकार किया जाता है,देश के पर्वती प्रदेशों में नाग पूजा बहुत महत्व होती है।हमारे देश के ऋषि मुनियों ने नाग पूजा में अनेक व्रत पूजन आदि का विधान किया हैं सावन सुक्ल पंचमी के दिन जो लोकच्चे गाय का दूध आसनान करते है ।।उनको तथा उनके परिवार को सर्प का भय भी रहता है, परम्परा अनुसार महिला अपने घरों मैं साप का चित्र तथा पर गोबर का चित्र बनाकर तेवहार मानती है ,दूध ,धूप, धार सर्प देवता को चढ़ाया जाता है।इस दिन किशन खेत में हल भी चलाते है,की कही साप को चोट नही लग जाए,तैसा विश्वास किया जाता है ।की सर्प इस प्रकार की सेवा से प्रसन्न हो ,और उस किसान के किसी भी सदस्य को नही काटता है ।ग्रामीण क्षेत्रों में साम के समय सजी धजी गाड़ियों में पूजा के समान लेकर नागपंचमी के दीन शिव मंदिर जाते है मंदिर पहुंच कर सभी लोग देर रात तक यह तेव्हार मानते हैं नाग पूजा में पृथ्वी एवं घर के दरवाजे पर गोबर या चावल के आटो का घोल बनाकर सपो का चित्र बनाकर एक सेंदुर से टिका करने का विधान है ।सोने चांदी लकड़ी या मिट्टी से पृथ्वी नाग बनाकर फूलवगंध धूप दीपक गुड से नागो का पूजन किया जाता है ।नाग हमारी कृषि लोगो को रक्षा करते है । अतः नागपंचमी का पर्व उनके नागो के प्रति सम्मान ,उनके संवर्धन एवं samperada देती है ।तथा साप हमे नही डसते है डसते तभी है जब हम लोग उनके साथ अनहोनी करते है,या जब ये भूखे रहते है इस लिए हम जब साप के साथ गलत कदम नही उठाना चाहिए जब हम साप के साथ कुछ नही करेंगे तो मुझे नही काटेगा ।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *